इंदौर
 इंदौर (indore) के बेटमा थाना क्षेत्र में सालभर पहले हुए अंधे कत्ल का पर्दाफाश पुलिस ने कर दिया है। दरअसल, अप्रैल 2021 को बेटमा पुलिस को जंगल मे एक नर कंकाल मिलने की सूचना मिली थी जिसकी जानकारी जुटाने के दौरान पुलिस को साइंटिफिक टेस्ट कराने तक आवश्यकता आन पड़ी थी। इधर, इस मामले में मृतक की शिनाख्ती के बाद पुलिस ने अब दो कातिल दोस्तों को गिरफ्तार कर लिया है जो वारदात को अंजाम देने के बाद से ही फरार चल रहे थे।


बताया जा रहा है कि बेटमा में रहने वाला जंगम सिंह पिता नागु भूरिया जंगल मे अपने दो दोस्त गेंदालाल पिता बाबू मीणा और जगदीश पिता शंकर वसुनिया के शराब पार्टी मनाने के लिए गया था। उसी दौरान मृतक का विवाद शराब पीने की बात को लेकर दोनों दोस्तों से हो गया था। इसके बाद आरोपी गेंदालाल और जगदीश ने जंगम सिंह के प्रायवेट पार्ट पर वार कर उसे मौत के घाट उतार दिया। वही उसकी पहचान न हो सके इसके लिए दोनों ने उसके पहचान पत्र उसकी जेब से निकाल लिए और गांव छोड़कर भान खड़े हुए।


इधर, कंकाल मिलने की घटना के बाद पुलिस की जांच शुरू हुई मृतक जंगम सिंह के बेटे मांगीलाल ने कपड़ो के आधार पर अपने पिता की पहचान तो कर ली लेकिन पुलिस को इस बात को पुख्ता करने के लिए डीएनए जांच की आवश्यकता पड़ी। जिसके बाद रिपोर्ट आते ही ये बात साबित हो गई कंकाल जंगम सिंह का ही है। इसके बाद पुलिस जांच शुरू तो पता चला आख़री बार जंगम सिंह को उसके दोस्तों गेंदालाल और जगदीश के साथ देखा गया था जो सिंधीपुरा के खेत मे शराब पार्टी मनाने गए थे। इसके बाद पुलिस ने शक के आधार पर जब आरोपियो के घर पर दबिश तो पता चला कि वो घटना के बाद से ही गांव छोड़कर भाग गए है। इसके बाद दोनों की तलाश शुरू की गई आखिरकार पुलिस को अब दोनों आरोपी गेंदालाल और जगदीश को पकड़ने में सफलता मिली और उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया जिसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर उन पर हत्या का प्रकरण दर्ज किया गया है।


एसपी भगवत सिंह विर्दी ने हत्या के मामले का खुलासा करते हुए कहा कि हत्या के बाद से दोनों आरोपी फरार हो चुके थे और धार सहित अन्य इलाकों में उन्होंने फरारी भी काटी होगी जिसके बारे में पुलिस की पूछताछ जारी है।

Source : Agency