सिंगरौली

 सिंगरौली में सीवर लाइन में सफाई करने उतरे तीन मजदूरों की जहरीली गैस से दम घुटने से मौत हो गई। घटना शुक्रवार शाम करीब 5 बजे बैढ़न-कचनी मुख्य मार्ग की है। श्रमिक करीब 30 फीट गहरे सीवर में उतरे थे। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद सीआईएसएफ ने तीनों के शव को निकाला।

जानकारी के अनुसार, शहरी क्षेत्र में निर्माणाधीन सीवर लाइन का कचनी में सफाई व मरम्मत का कार्य चल रहा है। निर्माण कार्य केके स्पन कंपनी द्वरा कराया जा रहा है। बताया गया कि शाम करीब 4 बजे दो मजदूर सीवर लाइन में उतरे। बाहर से एक श्रमिक उनकी लोकेशन लेने के लिए मौजूद था। काफी देर बाद जब दोनों मजदूरों की ओर से जवाब नहीं मिला, तो घबरा कर उन्हें देखने के लिए वह खुद भी पाइप लाइन में नीचे उतर गया। जब उसकी ओर से भी प्रतिक्रिया नहीं मिली, तो साथ काम कर रहे लोगों ने शोर मचाया। इसके बाद नगर निगम और प्रशासन को सूचना दी गई। घटना में श्रमिक कन्हैयालाल यादव पिता छोटेलाल यादव निवासी चांचर, नरेन्द्र कुमार रजक पिता रघुनाथ रजक निवासी चिनगी टोला तेलदह व इंद्रभान सिंह पिता देवराज सिंह निवासी भोइपुरा बुधवारा, भोपाल की मौत हो गई।

घटना की जानकारी होने पर सबसे पहले अपर कलेक्टर डीपी बर्मन व एसडीएम ऋषि पवार पहुंचे। एनटीपीसी से सीआइएसएफ की टीम बुलाई गई। करीब 2 घंटे की मशक्कत के बाद तीनों को बाहर निकाला गया। तीनों को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मामले में कंपनी के विरुद्ध धारा 304, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

कंपनी की लापरवाही

परिजनों ने कंपनी केके स्पन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। कंपनी ने मजदूर को सुरक्षा के उपकरण प्रदान नहीं किए थे। इससे पहले भी लापरवाही की वजह से मजदूर की मौत हो चुकी है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष अरविंद सिंह चंदेल ने मृतक के परिजनों को 15 लाख रुपए मुआवजा व नौकरी दिए जाने की मांग की है।

Source : Agency