रायपुर
 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), रायपुर में आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के लाभार्थियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस वर्ष में अब तक लगभग 12 हजार रोगियों ने स्वयं को पंजीकृत कराते हुए निशुल्क ओपीडी की सेवाएं प्राप्त की। सेवाओं के प्रति उत्साह को देखते हुए एम्स में पृथक काउंटर के माध्यम से रोगियों को विशेष सहायता प्रदान की जा रही है। गुरुवार को आयुष्मान भारत के तीन वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष में एम्स के रजिस्ट्रेशन काउंटर्स के पास जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया।

इसमें रोगियों और उनके परिजनों को जानकारी दी गई कि गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले रोगी पांच लाख रुपये तक और गरीबी की रेखा से ऊपर के रोगी 50 हजार रुपये तक का निःशुल्क उपचार प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए योजना में स्वयं को पंजीकृत कराना होता है जिसकी प्रक्रिया बेहद आसान है। इसके लिए सेंट्रल डोम में आयुष्मान भारत काउंटर की सहायता ली जा सकती है।

गरीब परिवारों का हो रहा उपचार

निदेशक प्रो. (डा.) नितिन एम. नागरकर ने कहा कि योजना से गरीब परिवारों के गंभीर रोगियों को तुरंत उपचार प्रदान करने में काफी सहायता मिली है। अभी तक एम्स में योजना प्रारंभ होने के बाद 23,468 रोगी इस योजना का लाभ उठा चुके हैं। वर्तमान में 12 विभागों की सेवाएं योजना के अंतर्गत प्रदान की जा रही हैं। उन्होंने योजना को स्वस्थ समाज की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया।

Source : Agency