रायपुर
माना एयरपोर्ट स्थित छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की चौथी बटालियन के शूटिंग रेंज को जिन्दल स्टील एंड पावर (जेएसपीएल) ने नया रूप दिया है, जिससे शूटिंग प्रतियोगिताएं अपेक्षाकृत अधिक आकर्षक और सुरक्षित हो जाएंगी। यहां बैफल्स को और मजबूत किया गया है, जो गोलियों को फायरिंग रेंज से बाहर जाने से रोकता है। पहले बैफल्स के निर्माण में आरसीसी लेंटर एवं लकड़ी का प्रयोग होता था लेकिन अब धागा और रबड़ से बनी कन्वेयर बेल्ट के इस्तेमाल से माना शूटिंग रेंज और सुरक्षित हो गया है। देश में यह अपनी तरह का अनूठा और पहला प्रयोग है, जिसके लिए छत्तीसगढ़ प्रदेश रायफल एसोसिएशन ने जेएसपीएल को धन्यवाद किया है।

जेएसपीएल के चेयरमैन नवीन जिन्दल शूटिंग के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रहे हैं और उनकी ही प्रेरणा से छत्तीसगढ़ प्रदेश रायफल एसोसिएशन राज्यस्तरीय शूटिंग प्रतियोगिता का आयोजन प्रत्येक वर्ष करती है। यह खेल बेहद संवेदनशील है इसलिए इसमें सुरक्षा के प्रति पूरी सतर्कता बरती जाती है। इसके सुरक्षा नियम बड़े सख्त हैं और उसके अनुरूप ही फायरिंग रेंज को नया रूप दिया गया है। कन्वेयर बेल्ट का बैफल्स में इस्तेमाल करने से माना फायरिंग रेंज और सुरक्षित हो गया है। जेएसपीएल एक कंपनी के रूप में सुरक्षा को सर्वोपरि मानती है और उसे सुनिश्चित करने के लिए पहल भी करती है। छत्तीसगढ़ प्रदेश रायफल एसोशिएशन ने इस सहयोग के लिए चौथी बटालियन के साथ-साथ जेएसपीएल का भी आभार व्यक्त किया है।

Source : Agency