इंदौर
बरसाती और ड्रेनेज का गंदा पानी घरों के सामने सड़क पर बहने की समस्या से परेशान ओम विहार और कृष्णकुटी कालोनी के लोगों को फौरी राहत की उम्मीद नजर आई है। विधायक संजय शुक्ला और पूर्व पार्षद नीता शर्मा के बीच हुए विवाद के बाद नगर निगम को समस्या की गंभीरता समझ आई। अधिकारियों ने ताबड़तोड़ बरसाती पानी के निकास के लिए स्टार्म वाटर के पाइप ओम विहार कालोनी भिजवा दिए। दिन में बारिश के कारण पाइप बिछाने का काम तो शुरू नहीं हो पाया, लेकिन रविवार से काम शुरू होने की उम्मीद है।

क्षेत्र में पिछले साल भी इसी तरह की समस्या आई थी, लेकिन तब नगर निगम ने सुध नहीं ली थी। हालांकि, क्षेत्र के लोग ड्रेनेज का गंदा बदबूदार पानी सड़कों पर बहने से अभी भी परेशान हैं। क्षेत्रीय नागरिक अरुण गर्ग ने बताया कि डेंगू-मलेरिया जैसी मौसमी बीमारियों के इस दौर में घरों के सामने लगातार बदबूदार पानी बह रहा है। इससे मच्छर पनप रहे हैं और क्षेत्र में बीमारी फैलने का खतरा भी है।

जनप्रतिनिधियों और अफसरों को यह समस्या दूर करना चाहिए। क्षेत्र के चैंबर भरे हैं। बरसाती पानी के निकास के लिए शनिवार को स्टार्म वाटर के पाइप तो जरूर आ गए, लेकिन बारिश के कारण काम शुरू नहीं हुआ। सभी से आग्रह है कि रहवासियों की तकलीफ समझें और गंदे पानी से निजात दिलाएं। इस विषय पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए।

नगर निगम ड्रेनेज विभाग के कार्यपालन यंत्री सुनील गुप्ता ने बताया कि स्टार्म वाटर लाइन बिछाने का काम तीन से चार दिन में पूरा कर दिया जाएगा। लाइन ओम विहार कालोनी से रामदयाल रेसीडेंसी के बीच बिछाई जाएगी। रामदयाल रेसीडेंसी की सड़कें ऊंची बनाने के कारण ओम विहार और आसपास के क्षेत्रों में जलजमाव हो रहा है। करीब 25 मीटर लंबी लाइन बिछाने में एक लाख रुपये से ज्यादा राशि खर्च होगी। लाइन बिछने से बरसाती पानी रामदयाल रेसीडेंसी तक चला जाएगा, जहां पहले से स्टार्म वाटर लाइन बिछी है।

Source : Agency