नई दिल्ली
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के नए चेयरमैन रमीज राजा ने अपना कार्यभार संभालने के पहले ही दिन पाकिस्तान क्रिकेट को सही रास्ते पर ले जाने और घरेलू क्रिकेट की तस्वीर बदलने का भरोया जताया। रमीज सोमवार को निर्विरोध तौर पर पीसीबी के नए चेयरमैन चुने गए। वे इस कुर्सी पर बैठने वाले सिर्फ चौथे टेस्ट क्रिकेटर हैं। पीसीबी के अधिकारियों के साथ बातचीत के बाद रमीज पहली बार बतौर पीसीबी चेयरमैन मीडिया से मुखातिब हुए। लाहौर के बॉब वूल्मर इंडोर कॉम्पलेक्स में करीब एक घंटे चली इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में रमीज ने कई मुद्दों पर खुल कर अपनी बात रखी। उनसे मुलाकात करने उनके पुराने साथी मोईन खान और आकिब जावेद भी मौजूद थे। रमीज राजा ने कहा कि, 'क्रिकेट ही मेरी पहचान है और यही मेरा काम। मेरा मकसद बिल्कुल साफ है, मैंने शुरू से ही सोच रखा था कि जब भी मुझे ये मौका मिलेगा, मैं पाकिस्तान क्रिकेट के लिए इसका पूरा फायदा उठाऊंगा। मैंने कुछ लंबी अवधि वाले लक्ष्य भी रखे हैं और कुछ छोटी अवधि वाले लक्ष्य भी। लेकिन वे चाहे जो भी हों, एक चीज बिल्कुल समान है और वह ये कि क्रिकेट बोर्ड का प्रदर्शन टीम के प्रदर्शन पर ही निर्भर करेगा। हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि हम पाकिस्तान क्रिकेट को जमीनी स्तर से ठीक करेंगे ताकि इसका असर हर तरीके की क्रिकेट पर पड़े।'

इस प्रेस कॉन्फेंस में रमीज से पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मौजूदा कप्तान बाबर आजम और पीसीबी के सीईओ वसीम खान के भविष्य को लेकर भी सवाल किए गए। जिसके जवाब में रमीज ने साफ तौर पर कहा कि इस बारे में कुछ भी कहना बेहद जल्दबाज़ी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि, 'मेरे लिए ये सोचना बहुत जल्दबाज़ी होगी, मुझे अभी उन्हें समझने के लिए और भी वक़्त देना होगा। मेरी बाबर से मुलाक़ात भी हुई है और मैंने यही कहा है कि अगर ऐकेडमी के बाहर आपके ऑटोग्राफ के लिए 400 लोगों की भीड़ न जमा हो तो फिर क्रिकेट असफल है। मैं वैसा नेतृत्व चाहता हूं जो हमारे जमाने में था, मैं बाबर से भी वैसी ही उम्मीद करता हूं जैसे कभी इमरान खान थे।' रमीज राजा ने पाकिस्तान क्रिकेट के सिस्टम के अंदर आने वाले 192 फर्स्ट क्लास खिलाड़ियों की भुगतान राशि में भी इजाफा करने का ऐलान किया। उन्होंने प्रत्येक खिलाड़ी की भुगतान राशि एक लाख पाकिस्तानी रुपये (करीब 600 यूएस डॉलर) बढ़ाने की घोषणा की।' उन्होंने कहा कि, 'अभी फर्स्ट क्लास क्रिकेटरों का भविष्य अधर में है, ये साफ नहीं है कि उन्हें कब तक पैसे मिलेंगे और वे कब तक क्रिकेट खेलेंगे। हमें एक ऐसा सिस्टम बनाना है, ताकि उनके प्रदर्शन को देखा जा सके और उन्हें उसी हिसाब से मेहनत का फल मिल सके। मैंने पाकिस्तानी टीम से बात की है और इसके मॉडल पर भी चर्चा की है। मैंने पाकिस्तान क्रिकेट की बेहतरी के लिए बहुत कुछ सोच रखा है और पूरी कोशिश रहेगी इसे हकीकत में भी बदल डालूं।

Source : Agency