लाहौर
तालिबान ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखा दी है। पाकिस्तान के एक मंत्री ने अफगानिस्तान से कारोबार के बदले पाकिस्तानी मुद्रा में रकम लेने का ऑफर दिया था। अफगानिस्तान ने पाक की इमरान सरकार के इस ऑफर को ठुकराते हुए कहा है कि पहले उसे अपने रुपये की हालत देखनी चाहिए।

अफगानिस्तान के कल्चरल कमीशन के सदस्य अहमदुल्ला वासिक ने कहा है कि पाकिस्तान जैसे पड़ोसी देशों से कारोबार के लिए किया जाने वाला लेन-देन अफगानी मुद्रा में ही होगा।

यह बयान उन अफवाहों के बाद आया है जिसमें कहा गया था कि पाकिस्तान जल्द ही अफगानिस्तान से रुपये में कारोबार शुरू कर सकता है। इससे उसे चालू खाते का घाटा कम करने में मदद मिलेगी। इस तरह की रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए वासिक ने कहा कि इन खबरों में कोई सचाई नहीं है कि पाकिस्तान के साथ बड़े कारोबार में उसकी करेंसी का यूज किया जाने वाला है। पिछले हफ्ते पाकिस्तान के वित्त मंत्री शौकत तारिन ने कहा था कि सरकार डॉलर का भंडार बचाने के लिए अफगानिस्तान के साथ कारोबार में रुपये का प्रयोग करने की सोच रही है।

पाकिस्तान के कारोबारियों ने भी इस खबर को व्यापार बढ़ाने के उदेश्य से बेहतरीन कदम बताया था। अफगानिस्तान की इस तरह की प्रतिक्रिया से उनके अरमानों पर पानी फिर गया है। कारोबारियों का कहना था कि इस तरह के करेंसी स्वैप एग्रीमेंट से दोनों देश के बीच कारोबार में डॉलर का प्रयोग नहीं होगा। इससे विदेशी मुद्रा से संबंधित खर्च और रिजर्व को बचाने में मदद मिलेगी।

करेंसी स्वैपिंग का मतलब होता है मुद्रा की अदला बदली। जब दो देश या दो व्यक्ति अपनी वित्तीय जरूरतों को बिना किसी नुकसान के पूरा करने के लिए मुद्रा की अदला बदली का समझौता करते हैं तो इसे करेंसी स्वैपिंग कहते हैं। भारत ने नेपाल-भूटान जैसे पड़ोसी देशों से करेंसी स्वैपिंग की हुई है। भारत के पांच रुपये की वैल्यू नेपाली आठ रुपये के बराबर है।

विनिमय दर या एक्सचेंज रेट मुद्रा की वैल्यू में किसी उतार-चढ़ाव की अनिश्चित स्थिति से बचने के लिए फिक्स दर पर करेंसी स्वैपिंग का समझौता करते हैं। विनिमय दर या एक्सचेंज रेट का मतलब दो अलग अलग मुद्राओं की सापेक्ष कीमत निर्धारित करना है। आप हर रोज रुपये और डॉलर की वैल्यू देखते हैं। इसमें थोडा-बहुत उतार-चढ़ाव रोजाना होता है। एक मुद्रा के सापेक्ष दूसरी मुद्रा के मूल्य को एक्सचेंज रेट कहते हैं। वह बाजार जिसमें विभिन्न देशों की मुद्राओं का विनिमय होता है उसे विदेशी मुद्रा बाजार कहा जाता है।

Source : Agency